{ads}

डेयरी एवं खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालय में नये भवन एवं ISO प्रमाणित प्रयोगशालाओं का उद्घाटन


 

डेयरी एवं खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालय में डेयरी एवं खाद्य रसायन विभाग तथा सुक्ष्मजीव विज्ञान के नवीन भवन का उद्घाटन मााननीय कुलपति डॉ. नरैन्द्र सिंह राठौड़ ने किया। यह भवन महाविद्यालय में डेयरी एवं खाद्य गुणवत्ता प्रमाणक प्रयोगशाला मानकों के अनुसार निर्मित किया गया हैं। 

अधिष्ठाता डॉ. एन. के. जैन  ने बताया कि इसमें छः प्रयोगशालाएं, एक स्मार्ट क्लास रूम तथा आठ प्राध्यापक कक्ष का निर्माण हुआ है। यह प्रयोगशालाएं विद्यार्थियों के गुणवत्ता पूर्ण प्रायोगिक कक्षाओं के संचालन में सहायक होगी। इन प्रयोगशालाओं में से चार ISO:9001:20715 प्रमाणित है जो कि इनकों विश्वस्तरीय प्रयोगशालाओं की श्रेणी में ले जाता है।  

ISO  प्रमाणन गुणवत्ता विश्वसनीयता, ब्राँडिंग, प्रलेखन तथा उपभोक्ता संतुष्टि के लिये प्रदान किया जाता है। इस प्रमाणीकरण बाद इन प्रयोगशालाओं में डेयरी एवं खाद्य पदार्थों की सुक्ष्मजीविकी जाँचे तथा गुणवत्ता का परीक्षण किया जा सकेगा। साथ में रसायन विभाग में दुध तथा दुग्ध पदार्थों की मिलावट का परीक्षण विश्वसनीयता के साथ किया जा सकेगा। 

इस अवसर पर डॉ. राठौड़ ने बताया कि इस महाविद्यालय के विद्यार्थियों का प्लेसमेंट में हमेशा से ही बहुत अच्छा रहा तथा विद्यार्थी राष्ट्रीय एवं अर्न्तराष्ट्रीय स्तर के संस्थानों को टक्कर देतें है। उन्हांेनें बताया की डेयरी एवं खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र असीम असंभावनाओं वाला क्षेत्र हैं जहाँ लाखों रोजगार के अवसर उपलब्ध रहेगें। महाविद्यालय के एलुमनी ने उद्योग व सरकारी स्तर पर अमिट छाप छोड़ी हैं तथा उनका योगदान प्रत्येक डेयरी एवं खाद्य प्रसंस्करण प्लांट में है। 

उन्होनें विद्यार्थियों को टप्ैप्व्छ ;विजिबिलिटी, इन्फ्रास्ट्रक्चर, सर्विस, इनोवेशन,ओपोरचूनिटी, नेशनल गोलद्ध के अनुसार कार्य करने के लिये प्रेरित किया। इस अवसर पर सी.डी.एफ.टी. टाइम्स (त्रैमासिक पत्रिका) तथा विद्यार्थियों द्वारा बनाये गये ई-लर्निंग एप का भी विमोचन किया। इस अवसर पर श्री कमलेश मीणा ने विभागों की उपलब्धियों, गतिविधियों तथा भविष्य की कार्य योजनाओं के बारे में बताया। 

डॉ. अरूण कुमार, विभागाध्यक्ष ने धन्यवाद ज्ञापन दिया। इस अवसर पर डॉ. पी. के. सिह अधिष्ठाता सी.टी.ए.ई., अनुसंधान निदेशक डॉ. एस. के. शर्मा डॉ. बी. के. शर्मा, डॉ. आर. ए. कौशिक, डॉ. महेश कोठारी, डॉ. विरेन्द्र नेपालिया, डॉ. त्रिलोक गुप्ता, सभी विभागाध्यक्ष, प्राध्यापकगण, कर्मचारी व बड़ी संख्या में विद्यार्थी मौजुद थे। इस कार्यक्रम को डॉ. निकिता वधावन, विभागाध्यक्ष डी.एफ.टी. ने संचालित किया व उन्होने बताया कि कार्यक्रम में तीन छात्रों को प्रो.रावत मेमोरियल स्कोलरशिप के प्रमाण-पत्र भी प्रदान किये गये।  
Tags

Top Post Ad

Advt

Below Post Ad

Advt

Copyright Footer